INSAAN

कसूर मेरा इतना है कि मैं इंसान बन गया, तुम्हारे ज़हन  में बसी पाक़  तस्वीर से गिर गया, दोष गलतियों को दूँ या खुद को, वो खुद ब खुद हुयी इन्सान की फितरत के  चलते, मेरा कसूर तो बस इतना था, कि मैं इन्सान बन गया।

Read More